मोहब्बत की अनकही दास्तां दारा शिकोह और राणा दिल- Heritage Baithak at Humayuns Tomb

11923190_877642108986041_7967685811098330732_n

आओ क़ायनात बाँट लें….तुम मेरे, बाकी सब तुम्हारा..

Oh! Emperor, here are the hair that you liked.”
This is the reply Begum Ranadil, the woman who loved and remained loyal to her husband, Dara Sukoh sent Aurangzeb. The story of their parents has been told and retold over centuries and has been inscribed to eternity in the form of the Taj Mahal. Dara Sukoh and Rana Dil’s story however, remains lost in the annals of time. On Sunday, 1st of May let’s meet at the splendid lawns of the Humayun’s ‘s tomb for a baithak to uncover from the sands of time another untold, yet, immortal Mughal love story, between a destitute girl and a crown prince, and how a tyrant emperor also fell for her charms.

This is a story that stood the test of time, and hence deserves to be told and has been picked by us after a sincere effort to gather as much stories as we could for our Musafirs ☺. So don’t let the heat deter you and do join us.

Event on Facebook

हिन्दोस्तान के तारीख़ी बाब में इश्क़-मोहब्बत-प्यार की हज़ारों दास्ताने दफ़न हैं, जिन्हें वक़्त-वक़्त पर सियासी रंजिशों ने अपनी हवस का शिकार बनाया और वो हाल किया कि आने वाली नस्लें उन्हें याद भी ना कर पाये…”

ऐसी ही एक मोहब्बत थी बादशाह शाहजहाँ के वली ए अहद दारा शिकोह और बेगम राणा दिल , जिन्होंने ज़माने की परवाह किये बग़ैर साथ रहने का फैसला किया.. जिन्हें ख़ुदा साथ लाया था पर ज़माने की रंजिशों ने उन्हें जुदा कर दिया ।

दिल्ली कारवाँ की अगली पेशकश है, मोहब्बत की अनकही दास्तां’

इस कहानी के किरदार कुछ इस तरह हैं –
बादशाह शाहजहाँ
मल्लिका-ए-दौरान मुमताज़ महल
ख्वाजा सरा हुस्नबानो
शहज़ादा दारा शिकोह
बेगम राणा दिल
शहज़ादा औरंगज़ेब
राव शत्रुसाल
शहज़ादी जहाँआरा बेगम साहेबा
शहज़ादी रोशनआरा
सती उन निसा
और कई……

मुसाफिरों, हुमायूँ के मकबरे में पेड़ की छाँव में बैठ कर हम सुनेंगे इस प्यार की गूँज.. उठेगी रूह से एक कूक और सिसकियाँ भी शायद जब ये दफ़न दास्तान ज़िंदा हो उठेगी…
साथ ही, इस अफ़साने के दौरान उस दौर की बहुत सी झलकियाँ भी मिलेंगी आपको.. तो जो दिल और दिल्ली के कदरदान हैं, हमें यक़ीन है इस महफ़िल में ज़रूर आएंगे । हमें आपका इंतज़ार रहेगा 🙂

Please note that presentation will be done in Hindi/Urdu

DAY, DATE & TIME: Sunday, 1st May, 2016, 4:30PM-7:00PM

MEETING POINT: Ticket counter of Humayun’s Tomb
(Parking available at the meeting point)

CHARGES: Rs. 300 per person

In case of any dikkat please call us at 9818278665

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *